page contents

Friday, May 9, 2008

दो घंटे में ढाई सौ क्लिक्स

दो घंटे में ढाई सौ क्लिक्स
जी हाँ और ये कमाल मेरे धाँसू कार्टूनों का नही है इसके पीछे का राज़ बड़ा जोरदार है. दरअसल मेरा 'बामुलाहिजा' मायवेबदुनिया.कॉम पर भी है. वहाँ पर ऐसा होता है की नए पोस्ट किए गए ब्लॉग वेबदुनिया के होम पेज पर दिखाई देते हैं. इसी सिलसिले में मेरा ब्लॉग भी था. और कल की पोस्ट का शीर्षक था 'महिलाएं और महिलाओं का विधेयक'. जिसे पूरा लिखने की बजाय ''महिलाएं और महिलाओं का....' लिखा गया था. मेरे बाद किसी और का ब्लॉग था जिसकी पोस्ट का शीर्षक था 'अकेलापन' अब इन दोनों पोस्टों के शीर्षकों ने आपस में मिलकर वह कमाल किया की २ घंटे में मेरी पोस्ट पर २५० क्लिक्स थे. ये सिलसिला तब तक चला जब तक की वेबदुनिया के होम पेज पर से मेरे ब्लॉग का लिंक हट नही गया. मेरे ब्लॉग का लिंक वहाँ से दिखना बंद होने के बाद ये सिलसिला धीमा हुआ और ये सिलसिला ३२५ के आंकडे तक पहुँच पाया।
आपके लिए इस मजेदार घटना का स्क्रीन शॉट भी दे रहा हूँ ...
इमेज को बड़ा देखने की लिए उस पर क्लिक करें ।