Saturday, January 26, 2013

कहाँ गण और कहाँ तंत्र

26 january cartoon, republic day, common man cartoon, indian political cartoon, political humor, daily Humor
























Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

7 comments:

रविकर said...

प्रभावी प्रस्तुति ||
गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें-

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

यही है असली गण. बाकी तो गन तन्त्र है.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

पुकार अच्छी है, लेकिन लोग ही सबकुछ करने लगे तो तन्त्र की जरूरत रहेगी ही नहीं. इसीलिये तन्त्र होता है और तन्त्र में जब गलत लोग आ जाते हैं तब क्या होता है, दुनिया जानती है.

प्रवीण पाण्डेय said...

सही परिभाषा है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

देश के 64वें गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
--
आपकी पोस्ट के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-01-2013) के चर्चा मंच-1137 (सोन चिरैया अब कहाँ है…?) पर भी होगी!
सूचनार्थ... सादर!

GYanesh Kumar said...

सच कहा है
तन्त्र ही तंत्र यहाँ है केवल गण को निगल गया है जो
गण धूल में वैठा नीचे कुर्सी से चुपका है वो
कुर्सी ने भारतवासी को घूस दिया है जेलों में
आतंकी आजाद घूमते गण घूमें है जैलों में
भारत का अब आम आतंकी है वना दिया
भारत के राष्ट्र द्रोहियो को नागरिक बना दिया



Neetu Singhal said...

एक तो बला के बे-शक्ल हुवे..,
फिर कहें हमें आइना दिखाए क्यूँ.....