page contents

Friday, March 8, 2013

महिला दिवस जिंदाबाद

women's day, women, crime against women



















Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

एक दिन ही मनायेंगे ये तो।

aativas said...

Unfortunately realistic :-(

प्रतुल वशिष्ठ said...

कीर्तिश जी, व्यंग्य तीखा है .... । पुरुषवादी समाज के लोग 'महिला दिवस' के नाम पर उनके लिए खरीददारी कर लाते हैं। उनको रिश्तेदारों में घुमा लाते हैं। उनकी दो बातें मान लेते हैं। उनके चटोरेपने को संतुष्ट कर देते हैं। उनकी अनपेक्षित डांट पर पलटकर जवाब नहीं देते। सच है ...........'महिला दिवस' को पुरुष के बिना मना पाना संभव भी नहीं।