page contents

Thursday, August 8, 2013

अब तो डॉलर की खैर नहीं

rupee cartoon, manmohan singh cartoon, chidambaram cartoon, finance, economy, indian political cartoon
























Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

1 comment:

Neetu Singhal said...

डाह दाह निंदा धुँआ , कलुखे मति आकास /
वाके अंजन नयन दिए, राखे दूर प्रकास /३९१ /

भावार्थ :-- ईर्ष्या यदि अग्नि है तो निंदा धुँवा है,जो मस्तिष्क के आकाश को कलुषित कर देता है / यदि इस कलुषाई के काजल को दृष्टि-पलक में लगाया जाए तो वह काजल, व्यक्ति को सत्य रूपी प्रकाश से दूर करते हुवे उसे अंधा अर्थात विचारहीन घोषित कर देता है //