page contents

Saturday, March 8, 2014

आप'का मासूम जवाब
















Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

दाँय मची है।

Neetu Singhal said...

अंजन माँगे आँधरा, गंजा कंघी तेल।
सत्ता के सुख भोगने, खेलें चुनाउ खेल।।

भावार्थ : -- आँख का अंधा सिंगार कू अंजन मांगे, जोती बढ़ानी है । सिर का गंजा कंघी और तेल माँगे, भाई अंधे को आँख दो, गंजे को टोप दो । बुद्धिहीन को बुद्धि दो, 'मत' मत दो । सत्ता के सुख भोगने के लिए चुनाव-चुनाव खेल रहे हैं, तो जिसके पास जो नहीं है वही दो ।।