page contents

Tuesday, September 16, 2014

गजब का कोन्फिडेन्स

shivsena, bjp cartoon, assembly elections 2014 cartoons, maharashtra, cartoons on politics, indian political cartoon

















Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

2 comments:

अजय कुमार झा said...

हा हा हा हा हां हां तो उसमें भी देर क्यों की जाए फ़िर तैयारी में कोई कमी नहीं रहनी चाहिए ..बहुत सटीक और मारक :) :)

Neetu Singhal said...

नाज बिनु भंडार भरे भांड बिनु भंडारि ।
रसवत भोजन सूचि लहि कस भीख बिनु भिखारि ।१८४६।

भावार्थ : -- अनाज भी नहीं और भंडार भी भर गया.....वाह ! बर्तन नहीं और रसोइया रख लिया । भीख का पता नहीं कितनी मिलेगी कब मिलेगी मिलेगी कि.....? नहीं मिलेगी.....और भिखारी हैं कि मीनू लिए घूम रहे हैं ॥