page contents

Friday, March 4, 2016

हमारे यहाँ शादियां ठोक-बजाकर की जाती हैं


हमारे यहाँ शादियां चलती यहीं और इसका कारण शायद यही होगा कि शादिया यूँ ही नहीं हो जातीं। :)काफी सोच समझकर और ठोक बजाकर की जाती है. उत्तर प्रदेश के कुछ किस्से तो यही बताते हैं। .



एक बारात को इसलिए वापस लौटना पड़ा क्योंकि वो दूल्हा पढ़ा लिखा नहीं था


अपनी ही शादी में दूल्हा शराब में धुत्त। दुल्हन ने लौटा दिया 





 दूल्हे को भाभी ने चूम लिया तो दुल्हन नाराज़ हो गयी


दूल्हे के फैमिली प्रकाश व्यवस्था से खुश नहीं थी. और बारात लौट गई.

दूल्हे को मिर्गी की बीमारी थी और दूल्हा इन वक्त पर बेहोश हो गया. 


गुटखा खाने का शौकीन दूल्हा फेरे से पहले गुटखा थूकने गया, लौटा तो दुल्हन ने शादी से इंकार कर दिया.
पूरी कहानी बीबीसी पर यहाँ पढ़ें