Saturday, September 3, 2011

संसद में लोकतंत्र का अपमान [cartoon]

laloo prasad yadav cartoon, laloo, parliament, corruption cartoon, indian political cartoon
Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

7 comments:

रविकर said...

सरकारी बन्धुआ मिले, फ़ाइल रक्खो दाब,
किरण-केजरीवाल का, खेला करो खराब |

खेला करो खराब, बहुत उड़ते हैं दोनों --
न नेता न बाप, पटा ले जायँ करोड़ों |

कह सिब्बल समझाय, करो ऐसी मक्कारी,
नौ पीढ़ी बरबाद, डरे कर्मी-सरकारी ||

(२)
खाता बही निकाल के, देखा मिला हिसाब,
फंड में लाखों हैं जमा, लोन है लेकिन साब |

लोन है लेकिन साब, सूदखोरों सा जोड़ा,
निकले कुल नौ लाख, बचेगा नहीं भगोड़ा |

अफसर नेता चोर, सभी को एक बताता |
फँसा केजरीवाल, खुला घपलों का खाता ||

प्रवीण पाण्डेय said...

कोई सोते से न जगाये मेंरे दीवाने को।

Nitin Jain said...

range haath, band aankh pakade gaye Laa loo !!

अनुपमा त्रिपाठी... said...

nice one..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट कार्टून की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की लगाई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

प्रतुल वशिष्ठ said...

लालू जी का बैंकों में भी सोना और संसद में भी सोना... मतलब सोना ही सोना...
बैंकों वाला अभी तक छिपा है... लेकिन संसद वाला ज़ाहिर हो गया...
शायद अब बैंकों वाला भी ज़ाहिर होते देर न लगे...

Kunwar Kusumesh said...

beautiful cartoon.