Saturday, March 19, 2011

कार्टून: इन बेचारों का अगले ५० साल तक कुछ नहीं होना.

Reservation, Reservation cartoon, common man cartoon, indian political cartoon, indian railways, rail
Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com)

8 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

बेचारे...

प्रवीण पाण्डेय said...

बिना पटरी में बैठे कैसे मिलेगा आरक्षण।

Shah Nawaz said...

:-) :-) :-)

आपको परिवार सहित होली की बहुत-बहुत मुबारकबाद... हार्दिक शुभकामनाएँ!

Udan Tashtari said...

आपको एवं आपके परिवार को होली की बहुत मुबारकबाद एवं शुभकामनाएँ.

सादर

समीर लाल

मनोज कुमार said...

सटीक व्यंग्य!
हप्पी होली!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

होली में चेहरा हुआ, नीला, पीला-लाल।
श्यामल-गोरे गाल भी, हो गये लालम-लाल।१।

महके-चहके अंग हैं, उलझे-उलझे बाल।
होली के त्यौहार पर, बहकी-बहकी चाल।२।

हुलियारे करतें फिरें, चारों ओर धमाल।
होली के इस दिवस पर, हो न कोई बबाल।३।

कीचड़-कालिख छोड़कर, खेलो रंग-गुलाल।
टेसू से महका हुआ, रंग बसन्ती डाल।४।

--

रंगों के पर्व होली की सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

Kajal Kumar said...

पर कुछ को तो इलाहाबाद उच्चन्यायलय ने सही से जुतियाया है

M VERMA said...

बेहतरीन और सटीक